Tuesday, October 27, 2015

...तो अच्छा होता

जब कभी दहलीज पर खड़ा होता
या कोई वाकिया गुज़रता है
तब कभी ये ख्याल आता है
साथ होते तो अच्छा होता....

अगर होते तो अच्छा होता,
नहीं हो तो भी अच्छा ही है,
एक पतवार से भी नाव चलती है
दूसरी होती तो अच्छा होता...

Wednesday, April 01, 2015

बहता है, बहने दो...


बहता है, बहने दो...

सदियों से सोया था
सांस में पिरोया था
एक शब्द, सहमा सा
जो कहता कहने दो....

ज़ख्म था या सपना था
जो भी था अपना था
यादों के आँचल में
अब सोता, सोने दो...

धूमिल सी आशाएं
टूटी परिभाषाएं
वो आधी बातें अब
आधी ही रहने दो...

कुछ आये, कुछ छूटे
पल बिखरे, पल टूटे
सांस में पिरोई उन
यादों को रहने दो...